होम/मंत्र-यंत्र संग्रह/पांचमुखी रुद्राक्ष

पांच मुखी रुद्राक्ष

पांच मुखी रुद्राक्ष कालाग्नि रुद्र का स्वरूप माना जाता है। यह पंच ब्रह्म एवं पंच तत्वों का प्रतीक भी है। पंचमुखी रुद्राक्ष में भगवान शिव की सभी शक्तियां समाहित होती है। इस धरा के पंच तत्व और पांच पांडव इस रुद्राक्ष के देव माने गए हैं। इस रुद्राक्ष का स्वामी ग्रह गुरु होता है। पाँचमुखी रुद्राक्ष पंचदेवों-शिव, शक्ति, गणेश, सूर्य और विष्णु की शक्तियों से सम्पन्न माना गया है। पंचमुखी रुद्राक्ष मानसिक तनाव, शत्रुनाश तथा साँप-बिच्छू जैसे जहरीले जानवरों के भय से मुक्ति दिलाता है। पांच मुखी रुद्राक्ष समस्त पापों का शमन करने वाला तथा पूर्णतया फलदायी होता है। इसकी माला पर पंचाक्षर मंत्र (नम:शिवाय) जपने से मनोवांछित फल प्राप्त होता है। पंचमुखी रुद्राक्ष दीर्घ आयु और अपूर्ण स्वास्थ्य प्रदान करता है | यह मनुष्य को उन्नति पथ पर चलने की ताकत देता है तथा उन्हें आध्यात्मिक सुख की प्राप्ति कराता है| पंचमुखी को धारण करने से अभक्ष्याभक्ष्य एवं स्त्रीगमन जैसे पापों से मुक्ति मिलती है| यह रुद्राक्ष धनु और मीन राशि के जातकों के लिए शुभ होता है। पंच मुखी रुद्राक्ष का मंत्र 'ऊँ ह्रीं नम:' है।