होम/साईं संग्रह/कुत्ते की पूँछ

sai baba

पंडितजी चुपचाप बैठे अपने भविष्य के विषय में चिंतन कर रहे थे| उन्हें पता ही नहीं चला कि कब एक आदमी उनके पास आकर खड़ा हो गया है| जब पंडितजी ने कुछ ध्यान न दिया तो, उसने स्वयं आवाज दी|'राम-राम पंडितजी|'पंडितजी चौंक गये|'क्या बात है, किस सोच में पड़े हो ?'पंडितजी ने देखा तो देखते ही रह गये| उनके सामने लक्ष्मण खड़ा था|'लक्ष्मण...तुम...|''हां पंडितजी|''कब आये ?' -पूछा पंडितजी ने|'बस सीधे आपके पास ही चला आ रहा हूं|' लक्ष्मण पंडितजी के पास बैठ गया|पंडितजी अभी भी उसे एकटक देखे जा रहे थे| कोई दो साल के बाद लक्ष्मण को देखा था| लक्ष्मण शिरडी का मशहूर बदमाश था| दो साल की सजा भुगतने के बाद अब वह जेल से सीधा आ रहा था| लक्ष्मण का इस दुनिया में कोई न था| वह एकदम अकेला था| आवारागर्दी, चोरी, गुंडागर्दी, छेड़छाड़, मारपीट करना ही उसके काम थे|लक्ष्मण बोला - 'क्या बात है, बड़े चुपचाप और उदास से बैठे हैं आज आप ?''हां|' - पंडितजी ने एक गहरी सांस छोड़ते हुए कहा|'क्या बात हो गयी ?''कुछ न पूछ लक्ष्मण ! इस गांव में एक चमत्कारी बाबा आया है| उसने मेरा सारा धंधा-पानी ही चौपट कर दिया है| अब तो भूखों मरने की नौबत आ गयी है|'लक्ष्मण आश्चर्य से बोला - 'कौन है वह ?''लोग उसको साईं बाबा कहते हैं|''अच्छा कहां का है वह ?''क्या पता ?' पंडितजी ने कहा - 'तुम अपना हालचाल कहो|''बस ! सीधा जेल से छूटते ही यहां चला आ रहा हूं|' लक्ष्मण मुस्कराया - 'यदि तुम कहो तो बाबा को अपना चमत्कार दिखा दूं|' और वह हँसने लगा|वैसे इससे पहले कई बार लक्ष्मण की सहायता से पंडित अपने विरोधियों को धूल चटवा चुका था| वह सोचने लगा, सांप की उस चमत्कारी घटना के कारण, जो स्वयं उसके साथ घटित हुई थी, वह भुला न पा रहा था|'बोलो पंडितजी ! क्या विचार है ?''कोशिश कर लो !''कोशिश क्यों ? मैं करके दिखा दूंगा| एक ही दिन में छोड़कर भाग जाएगा|' लक्ष्मण हँसने लगा|'जैसी तुम्हारी इच्छा|''क्या मैं तुम्हारे लिए इतना छोटा-सा काम नहीं कर सकता हूं ?' लक्ष्मण ने कहा - 'आपके तो बहुत अहसमान हैं मुझ पर|''पंडित चुप रह गया|''कहां रहता है वह चमत्कारी बाबा ?''द्वारिकामाई मस्जिद में|''क्या पता, कभी वह मुसलमान बन जाता है और कभी हिन्दू ! क्या है वह, कुछ पता नहीं|''ठीक है, मैं देख लूंगा उसे|''जरा सावधानी से|' पंडित बोला - 'सुना है, बड़ा चमत्कारी है वह|''अच्छा-अच्छा|' लक्ष्मण बोला - 'ख्याल रखूंगा|''ठीक है सुबह-शाम मेरे यहां आकर खाना खा गया जाया करो| रात मैं बरामदा सोने के लिए है ही|'लक्ष्मण चला गया|पंडित चिंता में पड़ गया| कहीं फिर उसने आत्मघाती कदम तो नहीं उठा लिया| यदि चमत्कार हो गया तो इस बार साईं बाबा उसे माफ नहीं करेगा| वह परेशान था कि आखिर यह साईं है क्या ?लक्ष्मण पंडित के पास से उठकर सीधे द्वारिकामाई मस्जिद गया| टूटी-फूटी द्वारिका मस्जिद का कायाकल्प देखकर वह हैरान रह गया| मस्जिद में चहल-पहल थी| साईं बाबा की धूनी जली हुई थी| वह उनकी धूनी के पास जाकर बैठ गया|साईं बाबा के पास उनके शिष्य बैठे थे| लक्ष्मण ने देखा, साईं बाबा कोई विशेष नहीं है| दुबला-पतला, इकहरा बदन है| एक ही हाथ में जमीन सूंघ जाएगा| हां, चेहरे पर एक अजीब-सा आकर्षक-तेज अवश्य था|साईं बाबा ने लक्ष्मण की ओर नजर उठाकर भी न देखा| अजनबी होने के बावजूद उससे पूछताछ न की|शिष्यगण चले गए| लक्ष्मण अकेला बैठा रह गया|उसकी उपस्थिति की सर्वथा उपेक्षा कर साईं बाबा आँखें मूंदकर लेट गए| मौका अच्छा जानकर, लक्ष्मण बाबा को धमकी देने के बारे में विचार कर रहा था|इससे पहले कि वह कुछ बोलता, साईं बाबा ने स्वयं कहा -'मैं जानता हूं कि तू मुझे मारने आया है|'यह बात सुनते ही लक्ष्मण बुरी तरह से चौंक गया| वह बुरी तरह घबरा गया|'मार, मार दे मुझे और अपनी इच्छा पूरी कर ले|'साईं बाबा का चेहरा बुरी तरह से तमतमा गया|लक्ष्मण को काटो तो खून न था| वह काठ के समान जड़ होकर रह गया| साईं बाबा का रौद्र रूप देखकर वह घबरा गया| उसका शरीर पसीने से तर-ब-तर हो गया|'कोई हथियार लाया है या खाली हाथ आया है?' - साईं बाबा बोले|वह घबरा गया|'बोल, जवाब दे|'लक्ष्मण पसीने-पसीने हो गया| वह घबराकर साईं बाबा के चरणों पर गिर गया और गिड़गिड़ाने लगा - 'क्षमा कर दो बाबा| क्षमा कर दो|''मेरे पैर छोड़|''जब तक आप मुझे क्षमा नहीं करेंगे, तब तक मैं आपके पैर नहीं छोड़ूंगा| आप तो अंतर्यामी हैं| मैं आपकी महिमा को न जान सका|''जा माफ किया| नेक आदमी बन|'लक्ष्मण चुपचाप सिर झुकाकर चला गया|तब साईं बाबा खिलखिलाकर हँस पड़े| एकदम बच्चों के समान थी उनकी हँसी| यह अंदाजा लगाना मुश्किल था कि कुछ समय पूर्व उनका रूप बेहद रौद्र हो गया था|साईं बाबा के पास उनका एक शिष्य आया, तो वह बड़बड़ा रहे थे - 'कुत्ते की पूँछ क्या भला कभी सीधी हो सकती है ?'शिष्य इस बात को समझ न पाया|लक्ष्मण ने पंडित के पास जाकर हाथ जोड़कर सारा किस्सा बताया, तो पंडित का मन ग्लानी, पश्चात्ताप से भर गया| वह साईं बाबा को मान गया| उसने साईं बाबा का विरोध करना बंद कर दिया और उनका परमभक्त बन गया|

Content
Content