Home/Vastu & Fengshui/स्टोर रूम के लिए वास्तु नियम

स्टोर रूम (भण्डार कक्ष) के लिए वास्तु नियम


अधिकांश घरों में, स्टोर रूम बेकार-रद्दी वस्तुओं को रखने वाले स्थान के रूप में जाना जाता हैं। लेकिन, वास्तव में, प्रत्येक घर में यह विशिष्ट स्थान वस्तुओं को सही ढंग से रखने के लिए बहुत सारा उपयोगी स्थान प्रदान कर सकता है। जब आप बेकार-रद्दी वस्तुओं को अधिक मात्रा में स्टोर रूम में रखते हैं तो यहाँ स्वाभाविक रूप से एक अव्यवस्था का वातावरण बनना शुरू हो जाता है और आपको काम के समय उपयोगी चीजें खोजने में परेशानी का सामना करना पड़ सकता हैं। अतः बेकार-रद्दी वस्तुओं के भण्डारण के लिए वास्तु नियमों का अनुपालन आवश्यक है। ठीक इसी प्रकार यदि आप ज्योतिष में विश्वास करते हैं तो आपको अपने घर के इस भाग पर अधिक ध्यान देना आवश्यक है क्योंकि ज्योतिष के अनुसार इस क्षेत्र का प्रभाव मनुष्य के जीवन पर अत्यधिक पड़ता है।

वास्तु शास्त्र आपको स्टोर रूम का सबसे प्रभावी तरीके से उपयोग करने के लिए सर्वोत्तम दिशानिर्देश प्रदान कर सकता हैं जिससे कि यह आपके घर में सुख समृद्धि एवं स्वास्थ्य लाए। अपने नए घर में स्टोर रूम के स्थान को निर्धारित करने के साथ-साथ बेकार-रद्दी वस्तुओं को स्टोर करने के तरीकों के लिए कुछ बेहतरीन वास्तु विचार प्राप्त करने के लिए नीचे दिए गए लेख को ध्यान पूर्वक पढ़े-

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में स्टोर रूम के लिए सबसे उपयुक्त दिशा

वास्तु सिद्धांतों के अनुसार, घर का उत्तर-पश्चिम कोना स्टोर रूम बनाने के लिए सबसे उपयुक्त है। वास्तु में इस विशेष दिशा को प्राथमिकता दी जाती है क्योंकि यह अवांछित सामग्रियों को घर में इकट्ठा होने से रोकने के लिये श्रेष्ठ है और भंडारण के एक उपयोगी स्थान भी प्रदान करता है। स्टोर रूम के प्रवेश द्वार को कक्ष के दक्षिण-पश्चिमी दिशा में स्थापित किया जाना चाहिए और दरवाजे को दो पल्ले वाला होना चाहिये। अनाज के भंडारण के लिए दक्षिण-पश्चिम सबसे अच्छी दिशा है और पूर्वोत्तर-पूर्व या पूर्वोत्तर-उत्तर दिशाओं में इस स्टोर रूम के प्रवेश द्वार को स्थापित किया जाना चाहिए । कंटेनर या रैक को पश्चिम, दक्षिण या दक्षिण पश्चिम दिशाओं में स्थापित किया जाना चाहिए। हमेशा स्टोर रूम के पूर्वी और उत्तरी भाग को खाली रखें। आग से संबंधित सभी चीजें जैसे तेल, घी,और गैस सिलेंडर इत्यादि ज्वलनशील पदार्थ को भंडारण कक्ष के दक्षिण-पूर्व कोने में रखा जाना चाहिए। आपको स्टोर रूम की ऊंचाई पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है। ध्यान दें कि, अन्य कमरों की ऊंचाई के बराबर स्टोर रूम की ऊंचाई रखना वास्तु सिद्धांतों के अनुसार एक अच्छा विचार नहीं है, अन्य कमरों की तुलना में इसकी ऊंचाई कुछ अधिक होनी चाहिए। सबसे अच्छा विचार यह है कि इसे इतनी ऊंचाई पर बनाना चाहिए ताकि आपके बच्चे इस तक आसानी से नहीं पहुँच सकें। कुछ हल्के रंग के साथ स्टोर रूम की दीवारों की पुताई करने का प्रयास करें, इसके पीछे यह तर्क है कि, इसके द्वारा इस क्षेत्र में कीटों को हटाने में मदद मिलेगी और इससे चीजों को क्षति से बचाया जा सकता है। स्टोर रूम के लिए सबसे बेहतर दीवार का रंग आसमानी नीला, सफेद और पीला है।

स्टोर रूम में सामग्री को कैसे स्टोर करें:

आम तौर पर, ज्यादातर लोग अपने स्टोर रूम में धातु के सामान, कपड़े और खाद्य पदार्थ का संग्रह करना पसंद करते हैं। लेकिन आप में से बहुत कम लोग जानते हैं कि वास्तु के अनुसार इन सभी चीजों को एक विशेष दिशा में रखा जाना चाहिए ताकि घर में रहने वाले लोगों पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़े। भंडारण के लिए वास्तु नियमों का पालन करना अच्छा है और इस तरह से सभी चीजों को एक विशेष दिशा में रखने के लिए प्रतिपादित नियमों को रोज़मर्रा के जीवन में अपना ले। यहां तक कि अनाजों को भी उनके नियमित उपयोग के अनुसार निश्चित दिशाओं में संग्रहित करने की आवश्यकता होती है। ध्यान दें, दैनिक आधार पर आवश्यक भोजन सामग्री को उत्तर-पश्चिम दिशा में रखा जाना चाहिए जबकि दक्षिण पश्चिम दिशा में लंबे समय तक प्रयोग करने योग्य अनाज को रखा जाना चाहिए। इसी तरह, स्टोर रूम के दक्षिण पूर्व कोने में गैस सिलेंडर, तेल, सौन्दर्य प्रसाधन और अन्य रसोई सामानों को रखा जाना चाहिए। खाली बक्सों एवं बर्तनों के स्टोर रूम में भंडारण से बचना आप के लिए अच्छा है क्योंकि यह वातावरण में नकारात्मक ऊर्जा की वृद्धि करता है। हमेशा यह सुनिश्चित करें कि कोई भी व्यक्ति कभी भी स्टोर रूम के अंदर न सोये क्योंकि ऐसा करना वास्तु शास्त्र के अनुसार अत्यंत ही खतरनाक है। इसके पीछे वैज्ञानिक तथ्य यह है कि सामान्यतः स्टोर रूम में गंदगी फैली रहती है अतः यहाँ सोने से आपके स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ सकता है।

स्टोर रूम (भण्डार कक्ष) के लिए वास्तु नियम