होम/वास्तु एवं फेंगसुई/रसोईघर के लिए वास्तु

रसोईघर के लिए वास्तु नियम

रसोई के लिए वास्तु नियम क्या है?

वास्तु शास्त्र घर में दिशाओं का उचित उपयोग करके लाभ प्राप्त करने का एक प्राचीन भारतीय विज्ञान है। उचित दिशाओं में सभी चीजों को रखने से सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह को घर में बढ़ाया जा सकता है जिससे घर में सुख और समृद्धि बढ़ती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, रसोई हमारे घर का सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्र है जो सभी तरह की ऊर्जाओं को उत्पन्न करता है। रसोई के लिए वास्तु शास्त्र के नियम हमें बताते हैं कि किस दिशा में रसोईघर स्थापित किया जाना चाहिए ताकि हम अपने फायदे के लिए इन ऊर्जाओं का उपयोग कर सकें।

वास्तु के अनुसार रसोईघर कहाँ होना चाहिए?

रसोई को घर के दक्षिण-पूर्व दिशा में स्थापित किया जाना चाहिए क्योंकि घर का यह हिस्सा अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करता है। अग्नि (आग) इस दिशा का स्वामी है अतः इस दिशा में रसोईघर स्थापित करने से यह सकारात्मक ऊर्जा और स्वास्थ्य-वर्धक वातावरण घर के लोगों की भलाई के लिए लाता है। यदि दक्षिण-पूर्व दिशा में कोई स्थान रसोई के लिए संभव नहीं है, तो एक वैकल्पिक उपाय के रूप में घर के उत्तर-पश्चिम दिशा में रसोई स्थापित किया जा सकता है। लेकिन हमेशा उत्तर-पूर्व दिशा में रसोईघर स्थापित करने से बचें क्योंकि यह दिशा अग्नि तत्व के विपरीत जल तत्व का प्रतिनिधित्व करता है जिससे घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बढ़ेगा जो कि घर के लोगों के अस्वस्थता का मुख्य कारण है।

रसोई मंच के लिए वास्तु शास्त्र नियम

- रसोई मंच रसोई घर के पूर्व या दक्षिण-पूर्व कोने में रखा जाना चाहिए।
- यदि संभव हो, तो रसोई मंच दक्षिण की दीवार की ओर पूर्व से कुछ दूरी पर अर्थात दक्षिण-पूर्व कोने या रसोई के अग्नि कोण में होना चाहिए।
- रसोई मंच के लिए सबसे अच्छा रंग हरा है। आप इसके लिए हल्के हरे रंग के ग्रेनाइट का उपयोग कर सकते हैं। दूसरा विकल्प सफेद मार्बेल है

गैस स्टोव बर्नर के लिए वास्तु नियम

- कुकिंग स्टोव या गैस बर्नर दक्षिण-पूर्व दिशा में दीवार से कुछ इंच दूर रखा जाना चाहिए।
- खाना पकाने का स्टोव या गैस बर्नर मुख्य दरवाजे के सामने कभी नहीं होना चाहिए।
- सिलेंडर को गैस बर्नर के नीचे रखा जाना चाहिए।

3 बर्नर गैस स्टोव के लिए वास्तु टिप्स

- प्राचीन दिनों में, रसोई में खाना पकाने के लिए केवल जलावन लकड़ी का प्रयोग होता था। वे खाना पकाने के लिए केवल लकड़ी के चूल्हे का इस्तेमाल करते थे लेकिन अब समय बदल गया है। समय धन की तुलना में अधिक मूल्यवान है। आप इससे पहले से कहीं ज्यादा काम को कम समय में पूरा करने और खाली समय का आनंद लेने में सक्षम हैं। यह एक साथ कई कार्य करने के लिए सबसे अच्छा है। रसोई के दक्षिण-पूर्व कोने में 3 बर्नर गैस स्टोव को रखें।

खाना पकाने के दौरान किस तरफ मुँह रखें?

- खाना पकाने के दौरान, व्यक्ति का मुँह केवल पूर्व की ओर होना चाहिए। वास्तु शास्त्र के अनुसार, यह उस घर में रहने वाले सभी लोगों के लिए स्वास्थ्य, दीर्घायु और सौभाग्य सुनिश्चित करता है।
- दूसरा विकल्प उत्तर दिशा है। दक्षिणी या पश्चिम दिशा की ओर मुँह करके कभी खाना नहीं पकाना चाहिए।

किचन सिंक के लिए वास्तु शास्त्र

- रसोई घर के उत्तर-पूर्व कोने में वॉश बेसिन (सिंक), पानी के टैब्स, पानी का फिल्टर और पानी का भंडारण टैंक रखा जाना चाहिए।
- कृपया सुनिश्चित करें कि किचन सिंक और खाना पकाने के स्टोव को एक-दूसरे के करीब नहीं होना चाहिए क्योंकि वे जल और अग्नि तत्वों का प्रतिनिधित्व करते हैं, जो एक दूसरे के प्रकृति के विपरीत हैं।
- रसोई में एक रिसते हुए पानी के नल को वास्तु शास्त्र में बहुत अशुभ माना जाता है और यह आप पर अनावश्यक व्यय लाता है।

रसोई मे भंडारण के लिए वास्तु नियम

- भंडारण के लिये अलमारियाँ रसोई के दक्षिण या पश्चिम दिशा में स्थापित की जानी चाहिए।
- स्टोरेज कंटेनर पर भी यही नियम लागू होता है। रसोई में, अनाज के लिए भंडारण कंटेनर, मसाले, नमक, दालों, चीनी आदि को रसोई घर की दक्षिण या पश्चिम दिशा में रखा जाना चाहिए।
- रसोई में खाना पकाने के स्टोव के ऊपर हमेशा ओवरहेड भंडारण से बचें।

रसोई में इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के लिए वास्तु नियम

- फ्रिज, मिक्सर ग्राइंडर, डिशवाशर और माइक्रोवेव-ओवन की तरह के भारी समान रसोई के दक्षिण और पश्चिम दिशा में रखा जाना चाहिए। लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि उनकी बिजली की आपूर्ति का स्रोत रसोई घर के दक्षिण-पूर्व कोने में स्थित होना चाहिए ।
- आप रसोई के उत्तर-पश्चिम या दक्षिण-पश्चिमी दिशा में भी फ्रिज रख सकते हैं।
- कृपया सुनिश्चित करें कि स्विच बोर्ड रसोई के दक्षिण-पूर्वी दिशा में होना चाहिए।

रसोईघर में खिड़कियों के लिये वास्तु नियम

- खिड़कियों को रसोई के पूर्वी दिशा में लगाया जाना चाहिए।
- एग्जॉस्ट पंखों को रसोई में पूर्वी दीवारों के दक्षिणपूर्व कोने में पूर्वी दीवारों में लगाया जाना चाहिए।
- रसोईघर के दक्षिण दिशा में वेंटीलेटर लगाया जाना चाहिए।

रसोईघर में दरवाजों के लिये वास्तु नियम

- दरवाजे रसोई घर के पूर्व, उत्तर या पश्चिम दिशा में बनाया जाना चाहिए, लेकिन इन्हें किसी भी कोने में नहीं होना चाहिए। सुनिश्चित करें कि दरवाजे दक्षिणावर्त खुलें।
- वास्तु शास्त्र के अनुसार, रसोई घर के दरवाजे को कभी भी शौचालय के दरवाजे के ठीक सामने नहीं होना चाहिए।
- वास्तु शास्त्र के अनुसार, यह भी महत्वपूर्ण है कि रसोई घर मुख्य दरवाजे के ठीक सामने नहीं होना चाहिए।

रसोईघर में रंगों के लिए वास्तु शास्त्र नियम

- रसोई घर की दीवारों एवं फर्श के लिए उपयुक्त रंग पीला, नारंगी, गुलाबी, चॉकलेट या लाल हैं।
- आधुनिक वास्तु शास्त्र विशेषज्ञों के अनुसार, ऐसा रंगों को चुनने की कोशिश करें, जिसमें कुछ हरे रंग के तत्व हों। इससे सकारात्मक ऊर्जा में वृद्धि होगी।
- कृपया रसोई में दीवार और फर्श दोनों के लिए काले रंगों का उपयोग करने से बचें।

रसोईघर के लिए कुछ महत्वपूर्ण वास्तु शास्त्र निर्देश

वास्तु के अनुसार रसोई निर्माण की योजना बनाते समय इन बिंदुओं को ध्यान में रखना चाहिए: -
- रसोईघर, बाथरूम या टॉयलेट के ऊपर या नीचे कभी भी निर्मित नहीं किया जाना चाहिए। रसोई शौचालय के सामने कभी भी निर्मित नहीं करना चाहिए यहाँ तक की बाथरूम या टॉयलेट की दीवार एवं रसोई की दीवार कभी भी एक(साझा) नहीं होनी चाहिए । यह भी महत्वपूर्ण है कि रसोई का दरवाजा कभी भी शौचालय के दरवाजे के ठीक सामने नहीं होना चाहिए।
- खाने की मेज रसोई घर के उत्तर-पश्चिम दिशा में रखा जाना चाहिए।
- रसोई घर में कभी भी मूर्तियों या भगवान / देवी के चित्रों या मंदिर को स्थापित नहीं करना चाहिए। यह भी महत्वपूर्ण है कि रात में सोने से पहले रसोई ठीक से साफ किया जाना चाहिए ।
- समृद्धि के लिए यह सुझाव दिया जाता है कि सबसे पहले पकाये हुए भोजन में से कुछ भाग अग्नि को समर्पित करना चाहिए।
- रसोईघर की जमीन का ढलान दक्षिण-पश्चिम दिशा से उत्तर-पूर्व दिशा तक होना चाहिए।
- कृत्रिम प्रकाश व्यवस्था रसोई घर के पूर्व या उत्तर दिशा की ओर स्थापित किया जा सकता है।
- खाना पकाने के स्टोव को रसोई में इस तरह से रखें कि यह रसोई घर के बाहर से दिखाई न पड़े।
- कृपया रसोई में झाड़ू न रखें। यदि अति आवश्यक हो तो इसे कभी भी रसोईघर में खड़ी स्थिति में न रखें।
- आप रसोई के दक्षिण या दक्षिण-पश्चिम दिशा की दीवार में घड़ी लगा सकते हैं।

Vastu for kitchen